सामयिकी – 24 जून 2019

  • पूर्वोत्तर राज्यों में आवागमन के लिए अनुमति की आवश्यकता क्यों
    • सुप्रीम कोर्ट में दायर जनहित याचिका में भाजपा नेता और वकील अश्विनी उपाध्याय ने Bengal Eastern Frontier Regulation 1873 की धारा 2, 3 और 4 को रद्द करने की मांग करते हुए सवाल खड़े किए हैं और कहा है कि जब संविधान ने भारत के किसी भी हिस्से में स्वतंत्रतापूर्वक आने जाने का मौलिक अधिकार दिया है तो फिर पूर्वोत्तर के कुछ हिस्सों में जाने के लिए Inner Line Permit की जरुरत संविधान प्रदत्त मौलिक अधिकार का उल्लंघन है तथा अपने ही देश में एक तरह से आंतरिक वीजा सिस्टम को बढ़ावा देने जैसा है
      • नागालैंड के नगा हिल्स क्षेत्र में जाने के लिए नगा मूल निवासियाें के अलावा अन्य सभी को ILP लेकर जाना पड़ता है। इसके अतिरिक्त दीमापुर जिले को भी नगा हिल्स क्षेत्र में शामिल करके वहां भी ILP लागू करने का प्रस्ताव है
      • ILP System वास्तव में अंग्रजों ने भारतीयाें को नगालैंड के पहाड़ी क्षेत्राें में पाई जाने वाली औषधीय और अन्य बहुमूल्य वनस्पतियों के लाभ से वंचित करने के लिए बनाया था ताकि वहां पर पाए जाने वाले उत्पादों का सिर्फ ब्रिटिश सरकार ही व्यापारिक लाभ उठा सके और व्यापार में उसका एकाधिकार बना रहे
  • देश में स्वास्थ्य पर खर्च की स्थिति
    • देश के कुल बजट का 1.2 से 1.3 प्रतिशत ही स्वास्थ्य के हिस्से में आता है तथा स्वास्थ्य खर्चे की कुल जीडीपी में हिस्सेदारी पिछले दस सालों से 1.5 प्रतिशत के नीचे ही बनी हुई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने इसे 2.5 प्रतिशत करने की बात कही है
  • देश में स्वास्थ्य सेवाओं के लिए डॉक्टरों की स्थिति
    • Medical Council of India के मुताबिक 2017 के अंत में देश में लगभग 10 लाख registered एलोपैथिक डॉक्टर थे जिनमें से आठ लाख ही सक्रिय थे। इस प्रकार देश में लगभग 1300 मरीजों पर सिर्फ एक डॉक्टर उपलब्ध है
  • आर्डिन्हो
    • एक ऐसा प्लेटफार्म जहां अलग–अलग तरह की प्रोग्रामिंग की जाती है तथा पूरा सिस्टम इसी से कनेक्ट होता है। इसे प्रोजेक्ट का ब्रेन माना जा सकता है तो सभी तरह की चीजें कंट्रोल कर सकता है
  • Financial Action Task Force (FATF)
    • मनी लांड्रिंग और आतंकी फंडिंग जैसे अपराधों की राेकथाम के लिए नीतियां और मानक तैयार करने वाला अंतर्राष्ट्रीय संगठन
    • जुलाई 1989 में फ्रांस की राजधानी पेरिस में जी–7 देशों की शिखर बैठक की पहल पर स्थापित
    • मुख्यालय – पेरिस
    • सदस्यों की संख्या – 38
    • क्षेत्रीय संगठन – 02 (यूरोपीय कमीशन और गल्फ कॉपरेशन काउंसिल)
    • Observer देश – इंडोनेशिया और सउदी अरब
    • भारत 2010 में इसका सदस्य बना
    • अब तक कुल मिलाकर 40 दिशानिर्देश जारी
      • इन दिशानिर्देशों में मनी लांड्रिंग और आतंकी फंडिंग रोकने के उपायों के साथ साथ बैंक खाते और रियल एस्टेट ट्रांजेक्शन के लिए KYC की जरुरत, आर्थिक अपराध की जांच का तंत्र स्थापित करना, आर्थिक अपराधों के संबंध में सूचनाओं का आदान–प्रदान करने जैसे उपाय शामिल हैं
    • FATF की Grey List
      • FATF के दिशानिर्देशों को लागू करने के लिए प्रतिबद्ध ऐसे देश जहां मनी लांड्रिग और आतंकी फंडिंग को रोकने के लिए किए गए उपाय नाकाफी है, उन्हें Grey List में डाला जाता है
    • FATF की Black List
      • जो देश FATF के दिशानिर्देशों के प्रति प्रतिबद्धता नहीं दिखाते उन्हें ब्लैक लिस्ट में डाल दिया जाता है तथा ऐसे देशों को हाई रिस्क देश कहा जाता है। ऐसे देशों के साथ किसी भी तरह का आर्थिक लेनदेन जोखिम भरा हो सकता है
      • एक बार किसी देश के ब्लैक लिस्ट में जाने के बाद अन्य देश उसके साथ कारोबार करने में ड्यू डिलिजेंस बढ़ा देते हैं जिससे उसके आर्थिक हितों पर कड़ी चोट पहुंचती है
      • फिलहाल ईरान और उत्तर कोरिया ब्लैक लिस्ट में हैं
    • FATF यदि किसी देश को ब्लैक लिस्ट में डालने का प्रस्ताव करता है तो उसे तभी बचाया जा सकता है तब कम से कम तीन सदस्य देश उसको बचाने के लिए समर्थन दें
      • पाकिस्तान को भी ब्लैक लिस्ट से बचाने के लिए चीन, मलेशिया और तुर्की ने समर्थन दिया है
    • पाकिस्तान समेत करीब दर्जनभर देश FATF की निगरानी सूची में हैं
  • यूएन के खाद्‍य प्रमुख चुने गए चीन के क्यू डोंग्यू
    • संयुक्त राष्ट्र के खाद्‍य एवं कृषि संगठन (FAO) के प्रमुख चुने जाने वाले प्रथम चीनी नागरिक
    • ब्राजील के जोस ग्रैजियानो डा सिल्वा का स्थान लेंगे
    • FAO 194 देशों को एक मंच पर लाती है
  • Intercept Range Founder
    • एक प्रकार की सर्विलांस तकनीक जो 360 डिग्री clockwise और anticlockwise घूमने में सक्षम है। इससे चारों ही दिशाओं में उपकरण की पैनी नजर रहती है और टारगेट की गतिविधियों को रोकने में कारगर होता है
  • मंगल पर दिखा गैसों का बुलबुला
    • नासा के क्यूरियोसिटी यान द्वारा खोजे गए गैसों के बुलबुले से मीथेन गैसों के लगातार बनने के अनुमान व्यक्त किए जा रहे हैं और इस घटना को लाल ग्रह पर सूक्ष्‍मजीवों की उपस्थिति का संकेत माना जा रहा है
    • मंगल के हल्के वातावरण में मीथेन की उपस्थिति बहुत महत्वपूर्ण है
    • सामान्य तौर पर सूर्य के प्रकाश और अन्य रासायनिक क्रियाओं के कारण मीथेन गैस कुछ सौ साल में विघटित हो जाती है। अतः मंगल पर मीथेन की उपस्थिति के संकेत इस बात के द्‍योतक है कि वह बहुत ज्यादा पुरानी नहीं है
    • पृथ्वी पर कुछ सूक्ष्‍मजीव मीथेन गैस के निर्माण के कारक है अतः इसकी संभावना बनती है कि मंगल पर भी ऐसे सूक्ष्‍मजीव उपस्थित हों
    • दूसरा अनुमान यह भी है कि यह मीथेन करोड़ों साल पुरानी है और अब तक चट्टानों में दबी रही है। ताजा साक्ष्‍य इसी गैस के हैं जो धीरे धीरे चट्टानों से बाहर निकल रही है।
    • हालांकि दोनों ही अनुमान अंतिम नतीजे नहीं हैं और नासा के अनुसार यह अभी तक एक शुरुआती नतीजा है और विस्तृत तस्वीर पर्याप्त अध्ययन के पश्चात ही स्पष्ट हो सकेगी

साभार – दैनिक जागरण (राष्ट्रीय संस्करण) दिनांक 24 जून 2019

आज के अंक से संबंधित पीडीएफ डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें – सामयिकी – 24 जून 2019

1 Comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.