सामयिकी – 18 जून 2019

  • संस्कृत में भी जारी होंगे सीएम योगी के भाषण और संदेश
    • भाषण और संदेश लिखने के लिए हिंदी में दो तथा अंग्रेजी और संस्कृत में एक–एक विशेषज्ञ रखे जाएंगे
    • सरकारी विज्ञप्ति भी संस्कृत में जारी की जाएगी
    • 17 जून को सरकार की ओर से संस्कृत में पहला प्रेस नोट भी जारी किया गया जो नीति आयोग की बैठक से संबंधित है
    • उत्तर प्रदेश में संस्कृत के कक्षा आठ से कक्षा बारह तक 1150 संस्कृत विद्‍यालय हैं जिनमें करीब नब्बे हजार बच्चे पढ़ते हैं
  • कौन होता है Willful Defaulter
    • किसी कर्जदार को willful defaulter तब घोषित किया जाता है जब वह जान बूझकर कर्ज नहीं चुकाता है यानी उसके पास पर्याप्त संसाधन तो हैं फिर भी वह भुगतान नहीं करता
    • इसके अलावा कर्जदाता को बिना बताए assets की बिक्री और रकम को दूसरे कामों में लगाने के चलते भी किसी व्यक्ति को willful defaulter घोषित किया जाता है
    • अगर किसी प्रमोटर को willful defaulter घोषित किया जाता है तो उसे किसी बैंक या वित्तीय संस्थान द्वारा अतिरिक्त कर्ज नहीं मिलता तथा वह अगले पांच वर्षों तक कोई नई कंपनी नहीं शुरु कर सकता
    • इसके अलावा कर्जदाता उसके उपर आपराधिक मामला शुरु कर सकते हैं
  • जोशना चिनप्पा का रिकॉर्ड 17वां राष्ट्रीय खिताब
    • स्क्वाश की राष्ट्रीय चैंपियनशिप रिकॉर्ड 17वीं बार जीती
    • फाइनल में सुनयना कुरुविल्ला को 11–5, 11–4, 7–11, 11–5 से हराया
    • भुवनेश्वर कुमारी के 16 राष्ट्रीय खिताबों का रिकार्ड तोड़ा
    • भुवनेश्वर कुमारी ने 1977 से 1992 के बीच 16 राष्ट्रीय खिताब जीते थे
  • सुपरनोवा के कारण पृथ्वी पर आईं धातुएँ
    • नेचर जर्नल में प्रकाशित कनाडा की UF यूनिवर्सिटी और अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अध्ययन के अनुसार सुपरनाेवा के कारण ही पृथ्वी को सोने और प्लेटिनम जैसी धातुओं का उपहार प्राप्त हुआ है
      • सुपरनोवा किसी तारे में हुए भीषण ब्लास्ट को कहते हैं। इससे निकलने वाला प्रकाश और विकिरण इतना जोरदार होता है कि कुछ समय के लिए पूरी आकाशगंगा धुंधली हो जाती है
    • अध्ययन के अनुसार ब्रह्मांड में लगभग 80 प्रतिशत भारी और कीमती तत्व कोलैप्सार्स प्रक्रिया के दौरान दुनिया में आए
      • कोलैप्सार्स सितारों के टूटने की एक दुर्लभ प्रक्रिया है और यह सुपरनोवा के दौरान ही घटित होती है। इस दौरान भारी मात्रा में धातुएँ तारे के टूटने से निकलती हैं
    • हालांकि इस शोध को अभी सैद्धांतिक तौर पर मान्यता मिलना बाकी है
  • धारियों से तापमान नियंत्रित करते हैं जेब्रा
    • नेचर हिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक अत्यधिक गर्मी वाले क्षेत्र अफ्रीका में निवास करने वाले जेब्रा शरीर के तापमान को अपनी काली – सफेद धारियों के माध्यम से नियंत्रित करते हैं। जेब्रा अपनी काली धारी को मौसम के मुताबिक बढ़ा और घटा सकता है
    • ब्रिटेन निवासी जीवविज्ञान टेक्नीशियन एलिशन कोब और उनके जूलॉजिस्ट पति डॉ० स्टीफन कोब ने बताया कि जेब्रा की धारियों का अद्भुत पैटर्न उसको अपना तापमान नियंत्रित करने की सहूलियत देता है। जेब्रा के पसीने के वाष्पीकरण में भी इन धारियों का योगदान होता है जिससे जेब्रा को तापमान अनुकूलित करने में मदद मिलती है।
    • अध्ययन में जेब्रा की काली और सफेद धारियों का तापमान अलग–अलग दर्ज किया गया।
    • काली धारी का तापमान सफेद से 12–15 डिग्री सेल्सियस ज्यादा पाया गया

साभार – दैनिक जागरण (राष्ट्रीय संस्करण) दिनांक 18 जून 2019

आज के अंक से संबंधित पीडीएफ डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें – सामयिकी – 18 जून 2019

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.