सामयिकी – 16 जून 2019

  • पांच लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था संभव – प्रधानमंत्री
    • अगले पांच साल में पांच लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्‍य, राज्यों का सहयोग अपेक्षित
    • राज्यों को जिला स्तर पर GDP का लक्ष्‍य निर्धारित करके काम करना होगा
    • नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बयान
      • नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की पांचवी बैठक
    • मार्च 2019 के अंत तक अनुमानित भारतीय अर्थव्यवस्था 2.75 लाख डॉलर की हो चुकी है
    • पांच सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाएं (स्राेत – विश्व बैंक, 2017 से संबंधित आंकड़े) –
      • अमेरिका – 19.48 लाख करोड़ डॉलर
      • चीन – 12.27 लाख करोड़ डॉलर
      • जापान – 4.8 लाख करोड़ डॉलर
      • जर्मनी – 3.69 लाख करोड़ डॉलर
      • भारत – 2.65 लाख करोड़ डॉलर
  • शाओमी की सप्लायर होलीटेक का भारत में पहला संयंत्र
    • स्मार्टफोन निर्माता कंपनी शाओमी की ग्लोबल कंपोनेंट आपूर्तिकर्ता होलीटेक टेक्नोलॉजी ने भारत में अपना पहला उत्पादन संयंत्र उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोयडा में खोला है
    • इस संयंत्र में Compact Camera Module, Capacitive Touch Screen Module, Thin Film Transistor, Printed Circuit और Fingerprint Module का उत्पादन होगा
    • लगभग 6000 लोगों को रोजगार मिलेगा
    • पहले यह संयंत्र आंध्र प्रदेश में लगाए जाने की योजना थी
  • बस्तर में लौह अयस्क का विशाल भंडार
    • दुनिया के सबसे बड़े लौह अयस्क भंडार क्षेत्रों की शीर्ष 10 सूची में शामिल बैलाडीला में छत्तीसगढ़ का 70 प्रतिशत लौह अयस्क का भंडार है। यह भंडार कुल 14 डिपॉजिट में है।
    • छत्तीसगढ़ के दूसरे बड़े भंडार क्षेत्र रावघाट को भी मिला लिया जाए तो यह आंकड़ा 80 प्रतिशत से उपर पहुंच जाता है
    • बस्तर संभाग के चार जिलों दंतेवाड़ा, कोंडागांव, कांकेर और नारायणपुर में कुल मिलाकर 215 करोड़ टन लौह अयस्क मौजूद है
    • दक्षिण बस्तर स्थित बैलाडीला में केंद्र सरकार की नवरत्न कंपनी NMDC का एकाधिकार है तथा उत्तर बस्तर के रावघाट में एक अन्य सरकारी कंपनी SAIL जल्द खनन के लिए अपनी औद्‍योगिक इकाई स्थापित करेगी
  • टैंकरों में ब्लास्ट से टकराव के मुहाने पर दुनिया
    • ओमान की खाड़ी में दो तेल टैंकरों पर रहस्यमय ब्लास्ट
    • अमेरिका का कहना है कि होर्मुज जलडमरुमध्य में हुए इस हमले में ईरान का हाथ है
    • ईरान का कहना है कि इस जलडमरुमध्य की सुरक्षा की जिम्मेदारी उसकी है और इस हमले में उसका कोई हाथ नहीं है तथा टैंकरों के चालक दल को बचाने में उसके सुरक्षा अधिकारियों ने तत्परता दिखाई थी
    • संयुक्त अरब अमीरात भी इस मामले में अमेरिका के साथ खड़ा दिखता है
    • होर्मुज का महत्व –
      • दुनिया भर में करीब एक तिहाई कच्चे तेल की आवाजाही इसी जलडमरुमध्य से होती है
      • इसके अलावा प्राकृतिक गैस का करीब पांचवा हिस्सा भी यहीं से होकर जाता है
      • ऐसे में इस जलडमरुमध्य को निशाना बनाकर पूरी दुनिया में कच्चे तेल की आपूर्ति को प्रभावित किया जा सकता है
    • अमेरिका की परेशानी की वजह –
      • दूसरे विश्व युद्ध के समय से ही अमेरिका ने फारस की खाड़ी में पेट्रोलियम की सुरक्षित आवाजाही सुनिश्चित करने का भरोसा दिया है
      • 1990–91 में खाड़ी युद्ध के समय इस क्षेत्र में सैन्य उपस्थिति के जरिए अमेरिका ने फिर अपनी प्रतिबद्धता जता दी थी
      • भले ही इस हमले में अमेरिका के टैंकर शामिल न हों लेकिन इस मार्ग के अवरुद्ध होने से अमेरिकी हितों पर भी दुष्प्रभाव पड़ेगा
  • भूटान – तंबाकू पर प्रतिबंध लगाने वाला पहला देश
    • 16 जून 2010 को तंबाकू पर पूर्ण प्रतिबंध आरोपित करने वाला दुनिया का पहला देश
    • संसद द्वारा लागू Tobacco Control Act के तहत तंबाकू की खेती, उत्पादन तथा बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध
  • Virtual Biopsy से त्वचा कैंसर की जांच
    • बिना चीरफाड़ के जांच करने लिए तैयार विशेष डिवाइस में वैज्ञानिक ध्वनि तरंगों और Near Infrared प्रकाश का इस्तेमाल करते हैं
    • शोधकर्ता फ्रेडरिक सिल्वर के अनुसार इस प्रक्रिया में 15 मिनट का समय लगता है और मरीज को किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं होती
    • इसमें ध्वनि तरंगाें की मदद से घाव की सघनता और सख्ती का आकलन किया जाता है क्योंकि कैंसर कोशिकाएं सामान्य कोशिकाओं की तुलना में ज्यादा सख्त होती हैं
    • एक छोटा सा स्पीकर ध्वनि तरंगाें की मदद से यह पता लगाने में सक्षम है कि गांठ कैंसर की है या नहीं
  • पैदा होते ही उड़ने लगता था टेरोडेक्टाइलस डायनासोर
    • वर्तमान में किसी भी जीवित प्राणी में ऐसी क्षमता नहीं है और जीवाश्मों के अध्ययन से पता चलता है कि अतीत में भी किसी प्राणी में ऐसी अद्भुत क्षमता नहीं थी
    • चीन में पाए गए टेरोडेक्टाइलस के भ्रूण के जीवाश्मों के अध्ययन से पता चला था कि उनके पंख बहुत कमजोर थे और ये पूर्ण विकसित होने पर ही उड़न भर पाते थे
    • ब्रिटेन की लिसेस्टर यूनिवर्सिटी और लिंकन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह परिकल्पना खारिज कर दिया है और उनके अध्ययन के अनुसार यह पता चला है कि जितने समय में टेरोडेक्टाइलस के पंख निकल आए थे उतने समय में तो अन्य जीवों के भ्रूण भी विकसित नहीं हो पाए थे
    • बाकी सरीसृपों में अंडे से बाहर निकलने के बाद पंखों का विकास होता है लेकिन यह डायनासोर अंडे से निकलने के बाद ही उड़ने लगता था

साभार – दैनिक जागरण (राष्ट्रीय संस्करण) दिनांक 16 जून 2019

आज के अंक से संबंधित पीडीएफ डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें – सामयिकी – 16 जून 2019

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.