सामयिकी – 27 अप्रैल 2019

  • देश की प्रथम बायोमैकेनिक लैब
    • दिल्ली स्थित Indian Spine Injury Centre में
    • हडि्डयों एवं रीढ़ की बीमारियों के इलाज में उपयोग होने वाले चिकित्सा उपकरणों की गुणवत्ता की जाँच हेतु
    • उद्देश्य – स्वदेशी चिकित्सा उपकरणों की गुणवत्ता सुनिश्चित करना एवं उन्हें बढ़ावा देना
    • देश में अपनी तरह की प्रथम सुविधा
  • रीढ़ की बीमारियों की रोबोटिक सर्जरी
    • Indian Spine Injury Centre नई दिल्ली में शुरु हाने वाली है
    • उत्तर भारत में इस सुविधा से युक्त प्रथम अस्पताल
    • नेविगेशन तकनीक से युक्त अत्याधुनिक रोबोटिक मशीनों का इस्तेमाल
    • एम्स दिल्ली में भी इस सर्जरी की शुरुआत के लिए रोबोट के खरीद की प्रक्रिया जारी
      • ढाई माह में प्रक्रिया पूरा हो जाने की उम्मीद
  • डिस्लेक्सिया से पीड़ित बच्चों की शिक्षा के लिए ई–शिक्षणम
    • ई–शिक्षणमः एक ऑनलाइन एवं फ्री प्राेग्राम
    • एमडीए के साथ मिलकर शोध द्वारा IIT मद्रास की एक बड़ी पहल
    • देश में डिस्लेक्सिया से पीड़ित बच्चों की संख्या करीब 40 लाख है
    • एक खास कोर्स तैयार करके देश भर के शिक्षकों के प्रशिक्षण की योजना
    • शुरुआत में पा्ंचवी तक पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए कोर्स। बाद में आगे की कक्षाओं के शिक्षकों के लिए भी कोर्स तैयार करने की योजना
  • डिस्लेक्सिया के दुष्परिणाम
    • इस रोग से ग्रसित बच्चों काे पढ़ने, लिखने, बोलने और गणित के सवालों को समझने में काफी परेशानी होती है।
    • ऐसे बच्चे अपनी कमजोरियों के कारण पिछड़ते चले जाते हैं और उनमें आत्मविश्वास की भारी कमी हो जाती है।
  • निर्भया फंड के अंतर्गत 4000 करोड़ रुपए मंजूर
    • केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न महिला सुरक्षा परियोजनाओं के लिए इस फंड की मंजूरी
    • दुष्कर्म एवं एसिड अटैक पीड़ितों को वित्तीय सहायता तथा महिलाओं एवं बच्चों के लिए विशेष पुलिस इकाईयों की स्थापना शामिल
    • सबसे अधिक 2919.55 करोड़ रुपए आठ शहरों (दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद, बैंग्लूर, अहमदाबाद और लखनउ) में सेफ सिटी प्रोजेक्ट के लिए मंजूर
    • केंद्रीय पीड़ित मुआवजा काेष के लिए 200 करोड़ रुपए
      • उद्देश्य – दुष्कर्म, एसिड अटैक, बच्चों के खिलाफ अपराध एवं मानव तस्करी इत्यादि के पीड़ितों की सहायता
    • Emergency Response Support System के तहत Pan-India Single Emergency Response Number-112 प्रदान करने के लिए 321.69 करोड़ रुपए
  • 17 साल में 16 लाख हेक्टयर से अधिक वन समाप्त
    • श्रोत – अंतर्राष्ट्रीय शोध संस्था World Resource Institute की हालिया रिपोर्ट
    • 2001 से 2018 की अवधि में वनाच्छादन के नुकसान की कुल क्षेत्र गोवा के भौगोलिक आकार के लगभग चार गुने के बराबर
    • नुकसान का आधा हिस्सा पूर्वोत्तर के राज्यों (नागालैंड, त्रिपुरा, मिजोरम, मेघालय और मणिपुर) से
    • 2015 से 2017 के बीच सर्वाधिक वनावरण खोने वाले राज्यों में महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश एवं तेलंगाना
    • 2000 में वनावरण भारत के भौगोलिक क्षेत्र का 12 फीसदी था जो 2010 में 8.9 फीसदी रह गया
  • प्रोपियोनेट से डायबिटीज और मोटापे का जोखिम
    • प्रोपियोनेट– खाद्‍य पदार्थों में आमतौर पर इस्तेमाल होने वाला कंपाउंड
      • उपयोग – खाद्‍य पदार्थों को पकाने और उनमें कृत्रिम स्वाद लाने हेतु
    • अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिघम एंड वूमेन अस्पताल की खोज
    • दुनिया में 40 करोड़ से ज्यादा लोग डायबिटीज से पीड़ित
  • एंटीबायोटिक्स से महिलाओं में हार्ट अटैेक का खतरा
    • श्रोत – यूरापियन हार्ट जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन
    • दो महीनों से एंटीबायोटिक्स का सेवन करने वाली 60 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को हार्ट अटैक का सर्वाधिक खतरा
    • लंबे समय से इस्तेमाल करने वाली 40 से 59 साल की महिलाओं को भी खतरा
    • 20 से 39 साल की महिलाएँ safe zone में (शोध के अनुसार)
  • Brain-Machine Interface
    • दिमाग के संकेतों से स्वाभाविक आवाज पैदा कर सकने में सक्षम virtual vocal tract
    • अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को स्थित कैलिफोर्निया विश्वविद्‍यालय के न्यूरोसाइंटिस्ट की खोज
    • लकवा अथवा अन्य बीमारियों की वजह से आवाज खोने वालों की आवाज वापस आ सकेगी
    • नेचर पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया कि इस vocal tract के जरिए न केवल प्रभावित मनुष्य धाराप्रवाह बोल सकेगा बल्कि अपना मनपसंद गीत भी गा सकेगा
    • अध्ययन के नेतृत्वकर्ता गोपाला अनुमनचिपल्ली के अनुसार मनुष्य के दिमाग में लगाए गए स्पीच सेंटर और साउंड में संबंध बनाना बहुत कठिन था। स्पीच सेंटर दिमाग के संकेतों को आगे भेजता था जिसे डिकोड करके स्पीकर तक भेजना एक बड़ा काम था
      • स्ट्रोक, मस्तिष्क में गंभीर चोट लगने, पार्किंसन रोग, मल्टिपल स्केलेरोसिस और एमियोट्रोफिक लेटेरल स्केलेरोसिस जैसे नसों से संबंधित रोगों में अक्सर बोलने की क्षमता चली जाती है।

साभार– दैनिक जागरण (राष्ट्रीय संस्करण) दिनांक 27 अप्रैल 2019

5 Comments

    1. मैं चाहूं यही कि कलम जब उठाऊं
      तो चमके किसी की नजर का सितारा

      जुड़े रहें और अपना प्यार तथा सहयोग बनाएं रखें 😊

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.